मेडिटेशन क्या है और कैसे करते हैं? Meditation Kaise Kare

meditation kaise kare, meditation kya hota hai,meditation ke fayde,meditation benefits in hindi
Meditation kya hota hai & Meditation kaise kare

इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में हर कोई इंसान कुछ सुकून के पल चाहता है। जिंदगी के इतने ज्यादा कष्ट और उतार-चढ़ाव में इंसान का तनाव में रहना आज के समय में एक आम बात हो गई है। दिन भर अपने घर ऑफिस और बिजनेस की टेंशन में हमेशा इंसान उलझा रहता है और अपनी जिम्मेदारियां को पूरा करता है। इस चिंता का कारण चाहे कुछ भी हो यह आपकी मानसिक विकास तथा स्थिति पर नकारात्मक प्रभाव डालता है, इसलिए आपको आज के समय में शारीरिक के साथ ही मानसिक रूप से भी स्वस्थ होना बहुत जरूरी हो गया है। आज के समय में आप अपने तनाव से छुटकारा पाने के लिए मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं यह एक बहुत ही कारगर एवं उपयोगी पद्धति है जो आपको मानसिक शांति के साथ ही आपको कई सारी शक्तियों से भी परिपूर्ण करेगा ।
मेडिटेशन आपको एक शांत अनुभव प्रदान करता है और आपको मानसिक रूप से मजबूत रखता है । इसे अच्छी तरह से अपनी दिनचर्या में सम्मिलित करके आप आंतरिक शांति और आत्मज्ञान की प्राप्ति कर सकते हैं जो कि आपको जीवन में सकारात्मक सोचने और अच्छे काम करने की प्रेरणा देता है।
इस ब्लॉग में हम जानेंगे कि मेडिटेशन क्या होता है (Meditation kya hota hai) मेडिटेशन कैसे करें (Meditation kaise kare) और मेडिटेशन के क्या लाभ होते हैं (Meditation ke fayde ya meditation benefits in hindi) साथ ही हम आपको कई सारे तरीके बताएंगे जिससे कि आप मेडिटेशन को बहुत ही अच्छे तरीके से अपनी जिंदगी में सम्मिलित कर सकते हैं और इसके कई सारे लाभ उठा सकते हैं ।

मेडिटेशन क्या है? meditation kya hota hai

मेडिटेशन एक बहुत ही पुरानी पद्धति है जो कि आपका दिमाग को शांत करने और उसके सोचने समझने की क्षमता को बढ़ाने के लिए उपयोग की जाती है, इसकी शुरुआत हजारों साल पहले पुरातन भारत में हुई थी और उसके बाद से ही इसमें बहुत ही प्रसिद्ध थी हासिल करी पूरे एशिया और दुनिया के बाकी हिस्सों में और फिर आज के आधुनिक समय में मेडिटेशन के बहुत सारे मानसिक और भावात्मक स्वास्थ्य से जुड़े लाभ होते हैं जिसे कि हर डॉक्टर और आध्यात्मिक लोगो के द्वारा मान्यता दी गई है । मेडिटेशन को जब आप अपनी दैनिक दिनचर्या में सम्मिलित करते हैं तो आपको कई सारी हीलिंग पावर्स और मानसिक शक्तियों की अनुभूति होती हैं । मेडिटेशन को कोई भी आसानी से कर सकता है और और आप इसके फायदे ले सकते हो आगे हम बात करेंगे कि हम कैसे अच्छे से मेडिटेशन को कर सकते हैं और इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ उठा सकते हैं ।

यह भी पढे: What is Time Management? 3 Best Time Management Books

मेडिटेशन कैसे करें? meditation kaise kare

मेडिटेशन कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है और इसको करने से आपको कई सारे फायदे मिलते हैं मेडिटेशन करने से आपका मन शांत रहता है और आपके दिमाग में चल रहे नकारात्मक और फालतू के विचारों को खत्म करने में मदद मिलती है जहां आपका दिमाग में उत्पन्न हुए तनाव को खत्म करता है और आपकी मानसिक और भावनात्मक शक्तियों को बढ़ाता है जिससे कि आप ज्यादा अच्छे से सो पाते हैं और अपने कामों को कर पाते हैं और अपने काम में और अधिक ध्यान दे पाते हैं जिससे कि आपका प्रोफेशनल लाइफ भी सुधरती है।
चलिए आगे जानते हैं कि मेडिटेशन कैसे कर सकते हैं:

  1. शांत वातावरण का चुनाव: मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले आपको एक शांत वातावरण का चुनाव करना चाहिए ऐसी जगह जहां पर की किसी भी तरफ तरह का शोर शराबा या फिर अनावश्यक आवाज़ ना हो, इस तरह से आप मेडिटेशन में ज्यादा अच्छे से ध्यान लगा पाएंगे और आपको मन भटकने वाली बाहरी आवाजों से आम दूर रहेंगे इसलिए सबसे पहले एक ऐसे स्थान की खोज कीजिए जहां पर कि आप कुछ समय आराम से बैठ सकते हैं बिना किसी शोर के और और आप कहां पर एक साफ सुथरा आसन बिछा के पर चाहिए या आपका एकांत कमरा हो सकता है या फिर आपकी छत जहां पर आप आराम से बैठकर कुछ समय एकांत में ध्यान लगा सके।
  2. आराम का ख्याल रखें: आपको मेडिटेशन करते समय अपना मन शांत और एकाग्रचित रखना होता है इसलिए आप अपने आराम के अनुसार अपने आसन का चुनाव करें जिस पर की आप बैठ कर कुछ क्षण एकांत में बिता पाए और साथ ही आप आरामदायक कपड़ों का भी चुनाव करें जो कि आपको शारीरिक रूप से सहज लगे। और ध्यान रहे कि आप ज्यादा टाइट या कसे हुए कपड़े ना पहने हो, आपका शरीर हल्का होना चाहिए और आप अपने जूते या चप्पल उतारकर एक आरामदायक पोजीशन में अपने आसन पर बैठे ।
  3. समय का चुनाव: अगर आप मेडिटेशन की अभी ही शुरुआत कर रहे हैं तो आप कम से कम समय जैसे की 5 से 10 मिनट कर सकते हैं और फिर अपने सहजता के अनुसार इस टाइम को बढ़ाकर 20 मिनट से 30 मिनट कर सकते हैं। कई सारे experts सलाह देते हैं कि आपको इसके ज्यादा से ज्यादा लाभ के लिए 20-20 मिनट सुबह और शाम मेडिटेशन करना चाहिए। आप मेडिटेशन करने का एक निश्चित समय का चुनाव कीजिए जिससे कि यहां आपकी दिनचर्या का एक अभिन्न अंग बन जाएगा और आप ज्यादा अच्छे से मेडिटेशन कर पाएंगे।
  4. सांसों पर ध्यान लगाए: आपको मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले अपनी आंखें बंद करनी होगी और अपनी सांसों पर ध्यान लगाना होगा आप शुरुआत में धीरे-धीरे सांस ली और फिर उसे लंबी और गहरी बनाते रहे और फिर उन पर फोकस करें। आप अपनी सांसों को अनुभव कीजिए कि वह कैसे अंदर और बाहर की तरफ आवागमन कर रही है। आप सामान्य तरीके से ही सांस लीजिए और उसे पूरी तरह से अपने एकांत मन से अनुभव करिए। अगर आपका मन भटकने लगता है या फिर एकांचित होने में परेशानी होने लगती है तो चिंता ना करिए आप अपनी सांसों के क्रम को फिर से शुरू करिए और दोबारा उसे पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करिए और किसी भी प्रकार के बाहरी विचारों को मुक्ति करिए और अपने मन को शांत और शुद्ध करने का प्रयास कीजिए।
  5. भगवान का स्मरण: यदि आपको अपने सांसों पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो रही है तो आप अपने ईष्ट देव या अपने भगवान जिसमें भी आपकी आस्था है आप उन्हें स्मरण कर सकते हैं और उन पर अपना ध्यान एकाग्र करके उन्हें अपने मस्तिष्क के अंदर अनुभव कर सकते हैं। आप उनकी छवि को अपने सामने परिकल्पना करे और उन पर ध्यान लगा लगाए, उनका नाम लेकर आप उन्हें और पूर्ण रूप से साकार रूप में अनुभव कर सकते हैं।
  6. मंत्र जाप करें: मेडिटेशन का यह एक बहुत ही अच्छा तरीका है “मंत्र ध्यान”, जिसमें कि आप किसी भी एक मंत्र का उच्चारण बार-बार कर सकते हैं और फिर आप उसमें और गहन ध्यान अवस्था में पहुंच सकते हैं। आपको जो भी मंत्र याद हो आप उसे दोहरा सकते हैं शुरुआत के लिए आप कोई भी ऐसा शब्द जो आपको सुख की अनुभूति देता है उसे अपने ध्यान में सम्मिलित कर सकते हैं या फिर आप सबसे सरलतम ॐ (ओम) का उच्चारण कर सकते हैं जो की एक सर्वव्यापी चेतना का प्रतीक है और आनंद को देने वाला है, आपको जो भी मंत्र अच्छे से याद है आप उसे अपने ध्यान में सम्मिलित करे । मंत्र संस्कृत का एक शब्द है जिसका अर्थ होता है “मन का उपकरण”, मंत्र वह तरीका है जो कि आपके मन में कंपन को उत्पन्न करता है और आपके सोचने की शक्ति को और अधिक चेतना और गहनता प्रदान करता है जिससे कि आप बहुत अच्छे से ध्यान में सम्मिलित हो पाते हो।
  7. हृदय चक्र ध्यान कीजिए: हृदय चक्र ध्यान एक तरह का मेडिटेशन है जिसमें कि आप हृदय चक्र पर अपना ध्यान केंद्रित करके मेडिटेशन करते हैं। हृदय चक्र शरीर के अंदर उपस्थित सात चक्र में से एक है। हृदय चक्र आपका हृदय के पास दोनों साथियों के बीच में स्थित होता है और यह प्रेम करुणा शांति और दया से जुड़ा हुआ है। हृदय चक्र पर ध्यान देने से आप संसार के लिए और अधिक दयावान करुणा के प्रतीक और असीम प्रेम को प्रदान कर पाते हैं। हृदय चक्र ध्यान करने के लिए आपको अपनी आंखों को बंद करके अपने दाहिने हाथ को छाती के बीच तथा बाएं हाथ को अपनी नाभि के ऊपर रखें। गहरी सांस ले तथा इसे “यम” शब्द के उच्चारण के साथ छोड़े, यह शब्द हृदय चक्र से जुड़ा रहता है इसलिए इसका उच्चारण आपको अपने हृदय को अनुभव करने में मदद करता है। आप बंद आंखों से एक हरी रंग की ऊर्जा की परिकल्पना कीजिए जो की प्रेम जीवन और सकारात्मक भावों को महसूस करता है। आप इसके साथ ही अपने सभी तरह के सकारात्मक और नकारात्मक भावों को महसूस कीजिए और उन्हें स्वतंत्र कीजिए।

मेडिटेशन करने के लाभ (meditation benefits in hindi)

मेडिटेशन को नियमित रूप से करने पर कई तरह के लाभ होते हैं, और यह लाभ शांति के अनुभवों से कही अधिक हैं। अब तक के कई सारे शोध यह बताते हैं कि मेडिटेशन आपको चिंता और तनाव से मुक्त करता है और आपके भावात्मक सुधार और एकाग्रता और ध्यान को बढ़ावा देता है और साथ ही आपके जीवन में खुशियों और संतुष्टि को बढ़ाता है। मेडिटेशन के और भी बहुत सारे फायदे हैं (Meditation ke fayde) जो कि इस प्रकार है:

Leave a Reply

Scroll to Top